Drinking Water : खड़े होकर पानी पीना होता है खतरनाक, यह मिथक है या सच्चाई, यहां जानें क्या कहता है विज्ञान

Drinking Water : खड़े होकर पानी पीने की आदत कई लोगों में पाई जाती है, लेकिन क्या ये आदत शरीर को अंदर से नुकसान पहुंचाती है या नहीं? इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. कई लोगों का मानना है कि ये एक मिथक है. लेकिन आयुर्वेद में माना जाता है कि खड़े होकर पानी पीने से पाचन क्रिया पर असर पड़ता है। इतना ही नहीं, योगाभ्यास में यह भी माना जाता है कि खड़े होकर पानी पीने की प्रक्रिया से शरीर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। खड़े होकर पानी पीने से पेट में गैस बनती है, पाचन तंत्र पर दबाव पड़ता है और शरीर में पानी का असंतुलन हो जाता है, इसलिए बैठकर धीरे-धीरे पानी पीने की सलाह दी जाती है। आइए जानते हैं खड़े होकर पानी पीने से और क्या होता है…

Drinking Water
Drinking Water

गुर्दे पर दबाव

विशेषज्ञों का कहना है कि खड़े होकर पानी पीने से किडनी पर दबाव पड़ता है, जिससे किडनी की बीमारी बढ़ सकती है। इसलिए किडनी रोगी को आराम से बैठकर पानी पीना चाहिए।

फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है

खड़े होकर पानी पीने से फेफड़ों पर दबाव पड़ता है जिससे फेफड़े पूरी तरह से खुल नहीं पाते हैं। इससे श्वसन तंत्र प्रभावित होता है। पेट में जमा पानी फेफड़ों के निचले हिस्से पर दबाव डालता है, जिससे फेफड़े सिकुड़ जाते हैं।

जोड़ों का रोग

विशेषज्ञों का मानना है कि अगर किसी को घुटने, कूल्हे या कमर में दर्द या जोड़ों में सूजन की समस्या है तो उन्हें खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए। खड़े होकर पानी पीने से जोड़ों पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है, जिससे दर्द बढ़ सकता है और जोड़ों को नुकसान हो सकता है। है। इसलिए जोड़ों के रोग से पीड़ित लोगों को आराम से बैठकर पानी पीना चाहिए। बैठकर पानी पीने से जोड़ों पर दबाव कम होगा और जोड़ों को आराम मिलेगा।

पाचन पर असर

खड़े होकर पानी पीने से भी पेट में वायु जमा हो जाती है जो पाचन तंत्र के लिए हानिकारक है। इससे एसिडिटी और कब्ज की समस्या हो जाती है.

अस्वीकरण: इस लेख में बताए गए तरीके, तरीकों और सुझावों को लागू करने से पहले कृपया डॉक्टर या संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।